Parchhai Shayari Status In Hindi || परछाई शायरी स्टेटस इन हिंदी

Parchhai Shayari Status In Hindi || परछाई शायरी स्टेटस इन हिंदी  

Parchhai Shayari Status In Hindi



"आज परछांई से पूछ ही लिया
क्‍यों चलती हो मेरे साथ
उसने भी हंसके कहा
और कौन है तेरे साथ"

Parchhai Status In Hindi


"अब इंसान नहीं
परछाइयाँ भी मदद को नहीं दिखती
या शायद
अंधेरे ने सबको मजबूर कर दिया है"


"हाथ में गुलाब लिये
 कल रात वो आयी थी
खोला जब दरवाजा मैंने
 बस उसकी परछाई थी"


"बड़े अजीब से है इस दुनिया के मेले
युं तो दिखती भीड़ है
लेकिन फि़र भी सब है अकेले"

"मेरी आँखों को जो तेरा 
अक्स नज़र आता
मैं जी भरके रो लेता तेरी परछाई
 से लिपटकर"


"परछाई भी छोड़ जाती है 
साथ गर्दिशों में 
मेरी जान तुम-हम 
तो अलग जिस्म ही थे"



"धूप की साथी परछाई भी हाथ छुडा 
लेती हैं अंधेरों मे
जिंदगी की शाम में नजारे कुछ
 यूं बदल जाते है"



"तुम जो परछाई छोड़ गयी हो
उसी में रंग भर रहा हूँ"



"मैं ढूँढ रही हूँ अपनी परछाई
कहीं तुम तो नहीं"


"परछाई भी तो केवल अमीरों की 
ही होती है साहब
गरीबों का तो 
पूरा घर ही अंधेरा होता है"



"तुम मत ही आना साथ मेरे
मेरी परछाई 
तो साथ आ ही जाएगी"

Parchhai Shayari In Hindi


"कहते हैं सब 
कि मुझमें है मेरी माँ की परछाई
बस उनके संस्कारों से है 
मैंने ये दौलत कमाई"


"पैरों के निशान भी तब
तक साथ रहेंगे
परछाई जब तलक मुझसे 
उंची रहेगी"



"ये किस दौर से गुज़र रहा हूँ मैं
जो तेरी परछाई से दूर हो रहा हूँ मैं
यानी, खुद को तबाह करने का इंतेज़ाम
खुद में ही कर रहा हूँ मैं"



"परछाई नहीं
 धड़कन बनो तुम मेरी
अंधेरों में भी साथ चाहिए 
मुझे तुम्हारा"



"लोग अक्सर परछाई से होते हैं
उजाले में हमसफ़र
अंधेरे में साथ छोड़ जाते हैं"


"भरोसा तो भरोसे पर भी न था
और चले थे हम
अपनी ही परछाई पर उंगली उठाने"



"वो मौत की परछाई थी
जो जिंदगी बन कर आई थी"



"रिश्ते तो यूँही बदनाम है 
अंधेरे में तो अपनी 
 परछाई भी साथ छोड़ देती है"



"सैर करती हुई फितरत एक दिन 
गुम हो गई थी रंगों में
परछाइयों से डरकर भी ज़िंदगियां 
गुजरी हैं लोगों की"



"तुम्हें भी इसमें उनकी परछाई दिखने
 लगी है शायद
यूँही नहीं शब्द खूबसूरत लगते हैं"

Parchhai Quotes  In Hindi 


"मेरी परछाई मेरी तरह
 ही हसीन है
अंदर से गमगीन और बाहर
 से रंगीन है।"



"अपनी ही परछाई से भागती हूँ
जब से तेरी परछाई
 से मुलाकातें होने लगी है।"



"खामोश है ये लब मेरे
शायद तेरी परछाई का असर है"


"मनुष्य कितना भी
गोरा क्यों ना हो
परंतु उसकी परछाईं
हमेशां काली ही होगी"


"मोहब्बत की आज मैंने 
यूं परछाई देखी
उसने ऊंचाई तो देखी
पर खाई नहीं देखी"



"क्यों अंधेरा साथ नहीं छोड़ता
उससे कहो ये परछाई भी ले जाए"

"जब जब मैंने कलम 
उठाई है
शब्दों में दिखी तेरी 
परछाई है"



"इस कदर वफा को 
निभाया हमने
उनकी परछाई को भी 
अंधेरे से बचाया हमने"



"तू परछाई था तब भी 
खिल रहे थे हम
अब मौसम तो जवाँ है
पर मुरझा गए है हम"



"तन्हा सा साथ है 
मेरी परछाई और मेरा
पर अक्सर
अंधेरों मे वो भी साथ छोड़ने
 लगती है मेरा"

आप इन्हे भी पढ़ सकते हो

Comments

क्या आप को पता हे की इस वेबसाइट का नाम क्या हे अगर पता हे तो कमेड़ कर के जरूर बातये