Slider

Monday, June 15, 2020

Zaroori Tha - Rahat Fateh Ali Khan Lyrics, Motivationalquotes1.com

Zaroori Tha - Rahat Fateh Ali Khan Lyrics



Singer Rahat Fateh Ali Khan
Music Sahir Ali Bagga
Song Writer     Rahat Fateh Ali Khan




Lafz Kitne Tere Pairon Se Lipte Honge
Tune Jab Aakhri Khat Mera Jalaya Hoga
Tune Jab Phool Kitaabon Se Nikaale Honge
Dene Waala Bhi Tujhe Yaad Toh Aaya Hoga

Teri Aankhon Ke Dariya Ka
Utarna Bhi Zaroori Tha
Mohabbat Bhi Zaroori Thi
Bichhadna Bhi Zaroori Tha

Zaroori Tha Ke Hum Dono
Tawafein Aarzoo Karte
Magar Phir Aarzuon Ka
Bikharna Bhi Zaroori Tha
Teri Aankhon Ke Dariya Ka
Utarna Bhi Zaroori Tha


Bataao Yaad Hai Tumko
Woh Jab Dil Ko Churaya Tha
Churaayi Cheez Ko Tumne
Khuda Ka Ghar Banaya Tha
Woh Jab Kehte Thhe
Mera Naam Tum Tasbih Mein Padhte Ho
Mohabbat Ki Namaazon Ko
Kaza Karne Se Darte Ho

Magar Ab Yaad Aata Hai
Woh Baatein Thi Mahez Baatein
Kahin Baaton Hi Baaton Mein
Mukarna Bhi Zaroori Tha
Teri Aankhon Ke Dariya Ka
Utarna Bhi Zaroori Tha

Zaroori Tha - Rahat Fateh Ali Khan Lyrics,


Wahi Hai Sooratein Apni
Wahi Main Hoon Wahi Tum Ho
Magar Khoya Huaa Hoon Main
Magar Tum Bhi Kahin Gum Ho
Mohabbat Mein Daga Ki Thi
So Kaafir The So Kaafir Hain
Mili Hain Manzilein Phir Bhi
Musaafir Thhe Musaafir Hain

Tere Dil Ke Nikaale Hum
Kahaan Bhatke, Kahaan Pahunche
Magar Bhatke Toh Yaad Aaya
Bhatakna Bhi Zaroori Tha
Mohabbat Bhi Zaroori Thi
Bichhadna Bhi Zaroori Tha

Zaroori Tha Ke Hum Dono
Tawafein Aarzoo Karte
Magar Phir Aarzuon Ka
Bikharna Bhi Zaroori Tha
Teri Aankhon Ke Dariya Ka
Utarna Bhi Zaroori Tha



Zaroori Tha Lyrics in Hindi


लफ्ज़ कितने ही तेरे पैरों से लिपटे होंगे
तूने जब आख़िरी खत मेरा जलाया होगा
तूने जब फूल किताबों से निकाले होंगे

देने वाला भी तुझे याद तो आया होगा
तेरी आँखों के दरिया का

उतरना भी ज़रूरी था
मोहब्बत भी ज़रूरी थी
बिछड़ना भी ज़रूरी था
ज़रूरी था की हम दोनों
तवाफ़े आरज़ू करते
मगर फिर आरज़ूओं का
बिखरना भी ज़रूरी था
तेरी आँखों के दरिया का
उतरना भी ज़रूरी था
बताओ याद है तुमको
वो जब दिल को चुराया था
चुराई चीज़ को तुमने
ख़ुदा का घर बनाया था
वो जब कहते थे
मेरा नाम तुम तस्बीह में पढ़ते हो
मोहब्बत की नमाज़ों को
कज़ा करने से डरते हो
मगर अब याद आता है
वो बातें थी महज़ बातें
कहीं बातों ही बातों में
मुकरना भी ज़रूरी था
तेरी आँखों के दरिया का
उतरना भी ज़रूरी था


Zaroori Tha - Rahat Fateh Ali Khan Lyrics,

वही हैं सूरतें अपनी
वही मैं हूँ, वही तुम हो
मगर खोया हुआ हूँ मैं
मगर तुम भी कहीं गुम हो
मोहब्बत में दग़ा की थी
सो काफ़िर थे सो काफ़िर हैं
मिली हैं मंज़िलें फिर भी
मुसाफिर थे मुसाफिर हैं
तेरे दिल के निकाले हम
कहाँ भटके कहाँ पहुंचे
मगर भटके तो याद आया
भटकना भी ज़रूरी था
मोहब्बत भी ज़रूरी थी
बिछड़ना भी ज़रूरी था
ज़रूरी था की हम दोनों
तवाफ़े आरज़ू करते
मगर फिर आरज़ूओं का
बिखरना भी ज़रूरी था
तेरी आँखों के दरिया का
उतरना भी ज़रूरी था

Zaroori Tha - Rahat Fateh Ali Khan Lyrics,




                                             

No comments:

Post a Comment

Thanks